WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Instagram Group Join Now
Banking

Megnat Credit Card | Magnet Credit Card Benefits | Magnet Credit Card Review in Hindi , Credit Card

Magnet Credit Card Benefits: हेलो नमस्कार दोस्तों आज हम फिर उपस्थित हैं आप सभी के बीच एक और इंटरेस्टिंग जानकारी के साथ दोस्तों आज हम आपको बताएंगे मैग्नेटिक स्ट्रिप कार्ड काम कैसे करता है। आज के इस आर्टिकल में हम आपको इसी के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी देने वाले हैंMagnet Credit Card Benefits

इसलिए आप सभी से अनुरोध है कि आप इस आर्टिकल को पूरा अंत तक जरूर पढ़े। ताकि आप सभी बातों को अच्छे से समझ पाए। और जान पाए की मैग्नेटिक स्ट्रिप कार्ड काम कैसे करता है। इसलिए दोस्तों अब आपका बिना ज्यादा समय लेते हुए सीधे चलते हैं अपने आर्टिकल की तरफ और आपको बताते हैं यह कार्ड काम कैसे करता है।

ऐसे तो आजकल सभी एटीएम क्रेडिट या शॉपिंग मॉल के कार्ड इस्तेमाल करते हैं और ये सभी देखने में भी प्लास्टिक के होते हैं।
और लगभग एक जैसे ही लगते हैं लेकिन हर काट के पीछे काले रंग के एक मैग्नेटिक स्ट्रिप जरूर होता है लेकिन इस कार्ड पर इस स्ट्रिप की क्या जरूरत है और यह कार्ड कैसे काम करता है यह जानना बेहद जरूरी हो जाता है।

मैग्नेटिक स्ट्रिप कार्ड कैसे काम करता है

इस कार्ड को काम करने के लिए सबसे जरूरी है कि आपके पास कुछ प्राइवेट पर्सनल डाटा हो जिसे आप कार्ड में डाल सके और यह बताया कर सके कि कार्ड आपके पास है वह आपका ही है चाहे फिर वह आपका अकाउंट नंबर हो आपका एंप्लॉय नंबर हो या कुछ और पैटर्न या पासवर्ड हो यह नंबर यह पैटर्न आपको उसे मशीन में कार्ड के थ्रू दिखाना होता है इसमें कार्ड लगाया जाता है जैसे कि एटीएम मशीन आदि।

एटीएम मशीन में यह सार डाटा इसके थ्रू आपका कार्ड काम करता है वह सारा डाटा कार्ड के पीछे की उस काली मैग्नेटिक स्ट्रिप में स्टोर किया जाता है उसके बाद जब उसे कार्ड को मशीन में डाला जाता है और स्कैन डाटा एंटर्ड किया जाता है तो आपको एक्सेस मिल जाता है और डाटा में किस तरह की भी गलती होने पर आपको एक्सेस नहीं दिया जाएगा।

मैग्नेटिक स्ट्रिप कार्ड में डाटा स्टोर कैसे करें

मैग्नेट डिस्क्राइब कार्ड का कॉन्सेप्ट कोई नया कॉन्सेप्ट तो नहीं है बल्कि आप ऑडियो वीडियो कैसे दिया टाइप वाला कांसेप्ट ही समझ सकते हैं जहां एक मैग्नेटिक टेप में डाटा स्टोर किया जाता है और बाद में उसे हम एंजॉय करते हैं ठीक वही कॉन्सेप्ट इस कार्ड में भी अप्लाई किया जाता है लेकिन यहां तब को अलग-अलग सेक्शंस में ब्रेक किया गया है उसमें डाटा को स्टोर किया गया होता है।

यदि आसान भाषा में कहे तो कार्ड के पीछे लगी यह स्ट्राइक एक ऐसी प्रॉपर्टी से बनी होती है जिसकी क्वालिटी और मैग्नेटिक प्रॉपर्टीज को हम आसानी से चेंज कर सकते हैं ऐसा इसलिए क्योंकि मैग्नेट की तरह इसमें भी नॉर्थ और साउथ पोल्स होते हैं जिसकी एलाइनमेंट चेंज की जा सकते हैं। अब हमारे पास एक मैग्नेटिक राइटर होते हैं जिसे कहते हैं। Solenoid ये राइटर स्टोग मैग्नेटिक फील्ड बनता है।

जैसी कि नॉर्थ साउथ साउथ नॉर्थ वगैरा और उनमें डाटा को 0 और 1 की फॉर्म में सेव कर दिया जाता है। ऐसा इसलिए क्योंकि डाटा 1 और 0 के फॉर्म में ही होता है।

मैग्नेटिक कार्ड का इस्तेमाल कैसे किया जाता है

मैग्नेटिक कार्ड सिर्फ एटीएम या क्रेडिट कार्ड ही नहीं होता बल्कि आपने देखा होगा कि होटल में भी आजकल कार्ड को ही चाबी की तरह इस्तेमाल किया जाता है ऐसे बहुत सारे ऑफिस से जहां स्पेशल लोगों को एक गेट से दूसरे गेट में इंटर करने के लिए काट दिए जाते हैं ठीक इसी तरह आजकल स्कूल और कॉलेज में भी होने लगा है लेकिन सवाल फिर वही है कि आखिर यह ब्लैक मैग्नेटिक स्ट्रिप वाला कार्ड काम कैसे करता है और इसमें जो इनफॉरमेशन डाली जाती है वह कैसे राइट या रीड की जाती है।

रीडर कार्ड के डाटा को कैसे पढ़ा जाता है

रीडर क्रेडिट कार्ड के डाटा को पढ़ना काफी आसान होता है जैसे जब आप कार्ड को स्वाइप करते हैं तो कार्ड का हर सेक्शन रीडर से गुजरता है और इलेक्ट्रिक फ्लेक्स को जनरेट करता है और कार्ड में बने जीरो और एक के पैटर्न का पता आपको चल जाता है।

मैग्नेटिक स्ट्रिप कार्ड का नुकसान क्या है

एस्कॉर्ट की सबसे खराब बात यह है कि इसकी डाटा को कोई भी आसानी से कॉपी कर सकता है और फिर इस डाटा को उसे करते हुए नकली कार्ड भी बन सकता है चाहे वह कार्ड लो क्वालिटी की हो लेकिन उसका गलत इस्तेमाल आसानी से किया जा सकता है इसी बात को देखते हुए बाद में इन कार्ड में चिप भी लगाई जाने लगे आप भी अपने एटीएम कार्ड में चिप देख सकते हैं।

यह चिप काफी स्पेशलाइज्ड होती है। इसकी वजह से कार्ड के डाटा को कॉपी करना आसान नहीं होता लेकिन होटल में अभी चिप्स वाले कार्ड इस्तेमाल नहीं होते हैं और यह समझ भी आता है क्योंकि उन्हें हर तीसरे चौथे दिन कार्ड बदलने होते हैं तो अगर वह महंगे मैग्नेटिक स्ट्राइक वाला कार्ड या चिप वाला कार्ड इस्तेमाल करते हैं तो उन्हें काफी महंगा पड़ेगा इसलिए उनके लिए वैसे सिंपल कार्ड ही सही है।

Conclusion

दोस्तों उम्मीद करते हैं आप अब काफी आसानी से समझ पाए होंगे कि मैग्नेटिक स्ट्रिप कार्ड क्या होता है और आप इसका इस्तेमाल कैसे कर सकते हैं साथ ही साथ इसका नुकसान क्या है आज के इस आर्टिकल में हम आपको इन सभी बातों के बारे में भरपूर जानकारी देने का पूरा प्रयास किए हैं। उम्मीद करते हैं दोस्तों आपको हमारा आर्टिकल जरूर पसंद आया होगा तो अपना फीडबैक में कमेंट बॉक्स में दे मिलते हैं आपसे फिर किसी ने इंटरेस्टिंग जानकारी के साथ तब तक के लिए धन्यवाद शुक्रिया।

Leave a Comment